दो युवकों ने फांसी लगाकर छोड़ी दुनिया
– बिसंडा थाने के घनसौल और तिंदवारी के भुजौली गांव का मामला
बांदा। अलग-अलग दो स्थानों में क्षय रोग से पीड़ित युवक समेत दो युवकों ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिवार के लोगों ने शव फंदे पर लटकते हुए देखा तो कोहराम मच गया। दोनो शवों को कब्जे में लेकर पुलिस ने पंचनामा के बाद पोस्टमार्टम कराया है।
मिली जानकारी के अनुसार तिंदवारी थाने के भुजौली गांव निवासी बृजेंद्र सविता (30) पुत्र शिवराम ने मंगलवार की रात कमरे के अंदर साड़ी से छत के छल्ले पर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। सुबह जब वह देर तक कमरे से बाहर नहीं निकला तो घरवालों ने देखा तो उसका शव फंदे पर लटक रहा था। शव देखते ही परिजनों में चीख-पुकार मच गई। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने परिजनों से पूछतांछ करने के बाद शव को कब्जे में ले लिया। मृतक के भाई नागेंद्र ने बताया कि बृजेंद्र राजस्थान में टाइल्स लगाने का काम करता था। उसका पिता दिल्ली में रहकर सिक्योरिटी गार्ड का काम करता है। बृजेंद्र होली का त्योहार मनाने गांव आया था। मंगलवार शाम घरेलू किसी बात को लेकर मां से विवाद हो गया। इसी से नाराज होकर उसने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली।
दूसरी घटना में बिसंडा थाना क्षेत्र के घनसौल गांव निवासी बुद्धविलास (25) पुत्र छिद्दू वर्मा ने मंगलवार की दोपहर सूने घर में अटारी पर रस्सी से फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। शाम को खेत से घर पहुंचे परिजनों ने देखा तो उसका शव फंदे पर लटक रहा था। शव देखते ही परिजन चीख पड़े। शोरशराबा सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंच गए। आनन-फानन फंदा काटकर उसेनीचे उतार लिया। पुलिस ने परिजनों से पूछतांछ करने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक के घरवालों ने बताया कि उसकी मां संतोषी राशन लेने कोटेदार के यहां चली गई थी। परिवार के अन्य लोग खेत चले गए थे। तभी सूना मौका पाकर उसने फांसी लगाकर जान दे दी। दादा कलुवा ने बताया कि बुद्धविलास दो वर्षों से टीबी रोग से पीड़ित था, उसका उपचार भी कराया गया। लेकिन हालत में सुधार नहीं हुआ। इसी से परेशान होकर उसने खुदकुशी कर ली। परिवारीजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

By Ravindra Mahan

Sub Editor UP TAAZA NEWS

Leave a Reply

Your email address will not be published.